एक सन्देश-

यह ब्लॉग समर्पित है साहित्य की अनुपम विधा "पद्य" को |
पद्य रस की रचनाओ का इस ब्लॉग में स्वागत है | साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी |

सदस्यता को इच्छुक मित्र यहाँ संपर्क करें या फिर इस ब्लॉग में प्रकाशित करवाने हेतु मेल करें:-
kavyasansaar@gmail.com
pradip_kumar110@yahoo.com

इस ब्लॉग से जुड़े

मंगलवार, 28 अगस्त 2018

दर्द बदलते रहते है 
 

मन माफिक काम बनाने को ,सन्दर्भ बदलते रहते है 
होती है अलग अलग वजहें ,पर दर्द बदलते  रहते है 

उनके दो पुत्र हुए दोनों, थे अति कुशाग्र और पढ़े लिखे 
अच्छी सी मिली नौकरी तो ,भागे विदेश,घर नहीं  टिके 
है पिता वृद्ध , संतान मगर ,करती ना उनकी देख भाल 
बस यदा कदा ,कर दूरभाष ,वो पूछा करते हालचाल 
उनके मन में यह पीड़ा है ,एक पुत्र नलायक रह जाता 
जो रहता साथ बुढ़ापे में ,और उन्हें सहारा दे   पाता 
अपने जब पास नहीं रहते ,हमदर्द बदलते रहते है 
होती है अलग अलग वजहें ,पर दर्द बदलते रहते है  

उनकी पत्नी सीधी ,कर्मठ ,परिवार निभाने वाली है 
पर उनके मन में पीड़ा है ,वो गौरवर्ण ना ,काली है 
उनके सब मित्रों की पत्नी ,है सुन्दर,गौरी और स्मार्ट 
फैशन की पुतली ,बनीठनी ,बातों का आता उन्हें आर्ट 
पर उनके पति भी पीड़ित है ,लुटते है फैशन के मारे 
पत्नी रसोई तक में घुसे  ,है बहुत दुखी वो  बेचारे 
पत्नी कहती ,वैसा करते ,सब मर्द बदलते रहते है 
होती है अलग अलग वजहें ,पर दर्द बदलते रहते है 

वो सरकारी सेवा में थे ,ऊंचे ओहदे के अफसर थे 
थे कार्य कुशल और रौबीले ,सब करे उनका आदर थे 
थे बहुत अधिक ईमानदार ,रिश्वत से उनको नफरत थी 
ना गलत काम करते कोई ,सच्चाई जिनकी आदत थी 
जब हुए रिटायर ,महीनों तक पेंशन की फ़ाइल गयी अटक
कुछ ले देकर के मुश्किल से ,उनको मिल पाया ,अ पना हक़ 
जब खुद पर गुजरा करती है ,आदर्श बदलते रहते है 
होती है  अलग अलग वजहें ,पर दर्द बदलते रहते है 

थे  इन्द्रासन पर इंद्रदेव ,मन में न तनिक संतोष उन्हें 
वे  घिरे अप्सराओं से रहते ,कर सोमपान ,ना होंश उन्हें 
उनके मन में यह पीड़ा थी ,है वो की वोही अप्सरायें 
होती ना तृप्त लालसा थी ,नित स्वाद बदलना वो चाहें 
इसलिये तोड़ सब मर्यादा ,हो गए काम के अभिभूत 
धर गौतम भेष,अहिल्या का,छुप कर सतीत्व ,ले लिया लूट 
मन चाहा पाने ,बड़े बड़ों के ,कृत्य बदलते रहते है 
होती है अलग अलग वजहें ,पर दर्द बदलते रहते है 

मदन मोहन बाहेती ' घोटू '

1 टिप्पणी:

  1. The National Testing Agency (NTA) has organized the Joint Entrance Examination (JEE) Head all over India, it is one of the National Level Entry Examination for Twelfth Students for taking admission in various Engineering courses in top IIT and NIT institutions. to read more click here

    उत्तर देंहटाएं

कृपया अपने बहुमूल्य टिप्पणी के माध्यम से उत्साहवर्धन एवं मार्गदर्शन करें ।
"काव्य का संसार" की ओर से अग्रिम धन्यवाद ।

हलचल अन्य ब्लोगों से 1-