एक सन्देश-

यह ब्लॉग समर्पित है साहित्य की अनुपम विधा "पद्य" को |
पद्य रस की रचनाओ का इस ब्लॉग में स्वागत है | साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी |

सदस्यता को इच्छुक मित्र यहाँ संपर्क करें या फिर इस ब्लॉग में प्रकाशित करवाने हेतु मेल करें:-
kavyasansaar@gmail.com
pradip_kumar110@yahoo.com

इस ब्लॉग से जुड़े

रविवार, 7 अगस्त 2016

दास्ताँ -चार दिन की

दास्ताँ -चार दिन की

पहला दिन
--------------
चेहरे पर चमक है
बातों में खनक है
आजाद पंछी सी ,
ख़ुशी और चहक है
कौन ऐसी ख़ुशी की,
हुई बात नयी  है
क्या बताएं यार ,
बीबी मइके गयी है
दूसरा दिन 
-------------
रोज की दिनचर्या
हुई अस्तव्यस्त है
दिखते कुछ त्रस्त पर,
कहते हम मस्त  है
मन में परेशानियां ,
कही अनकही  है
क्या कहें,दो दिन से ,
बीबी मइके गयी है
तीसरा दिन
--------------
रात,दिवस तन्हाई,
बुरी हो गयी है गत
काटने घर दौड़े ,
देवदास सी हालत
पति को अकेला यूं,
छोड़ कर सताती है
पता नहीं औरतें,
मइके क्यों जाती है
चौथा दिन
-------------
कल तक जो थे ढीले ,
आज हुए फुर्तीले
चमक रहा है चेहरा ,
 चहक रहे ,रंगीले
लगते है बेसब्रे ,
हालत ,मतवाली है
पत्नीजी ,मइके से
आज आने वाली है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'
 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कृपया अपने बहुमूल्य टिप्पणी के माध्यम से उत्साहवर्धन एवं मार्गदर्शन करें ।
"काव्य का संसार" की ओर से अग्रिम धन्यवाद ।

हलचल अन्य ब्लोगों से 1-